कोरोना वायरस:लक्षण, रोकथाम और मिथक

कोरोना वायरस क्या है?

Coronaviruses एक ऐसा परिवार है viruses का जो की काफी भयानक रोग फैलाते हैं कोरोना वायरस का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है. यह वायरस पहले mammals (स्थनधारी) और पक्षियों में पाया जाता था। इसका इंसान पर पहला संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान में शुरू हुआ था. डब्लूएचओ के मुताबिक, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं. अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका नहीं बना है.

इसका नाम कैसे पड़ा?

Coronavirus का नाम उसके distinctive corona या ‘crown’ के तरह दिखने वाले sugary-proteins से मिला है।

कोरोना के लक्षण क्या है?

इसके लक्षण फ्लू से मिलते-जुलते हैं. संक्रमण के फलस्वरूप बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्या उत्पन्न होती हैं. यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है. इसलिए इसे लेकर बहुत सावधानी बरती जा रही है. कुछ मामलों में कोरोना वायरस घातक भी हो सकता है. खास तौर पर अधिक उम्र के लोग और जिन्हें पहले से अस्थमा, डायबिटीज़ और हार्ट की बीमारी है.

कोरोना से कैसे बचें?

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोरोना वायरस से बचने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं. इनके मुताबिक,

  • हाथों को साबुन से धोना चाहिए. अगर आपके पास साबुन  और पानी उपलब्ध न हो तब अल्‍कोहल आधारित हैंड रब का इस्‍तेमाल भी किया जा सकता है.
  • अपने आँखों, नाक और मुहं को बिना धुले हुए हाथों से न छुएँ.
  • खांसते और छीकते समय नाक और मुंह रूमाल या टिश्‍यू पेपर से ढककर रखें.
  • अक्सर छुए जाने वाले चीज़ों को साफ़ रखें.
  • जिन व्‍यक्तियों में कोल्‍ड और फ्लू के लक्षण हों उनसे दूरी बनाकर रखें.
  • संक्रमित व्यक्ति से सीधा संपर्क में आने से खुद को रोकें.
  • यदि आप बीमार हैं तब ऐसे में घर पर ही रहें.

ये कुछ ऐसी आदतें है जो की आपको इस वायरस के फैलने से रोकने में मदद करती है.

भारत सरकार ने भी जारी की एडवाइज़री

भारत सरकार ने भी कोरोना वायरस के लक्षण मिलने पर तत्काल स्वास्थ्य केंद्र पर सूचना देने को कहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से 24 घंटे चलने वाला कंट्रोल रूम तैयार किया गया है. फोन नंबर 011-23978046 के माध्यम से कंट्रोल रूम में संपर्क किया जा सकता है. इसके अलावा [email protected] पर मेलकर के भी कोरोना वायरस के लक्षणों या किसी भी तरह की आशंकाओं के बारे में जानकारी ली जा सकती है.

कोरोना वायरस पर और सटीक जानकारी के लिए WHO की Official साइट और स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय देखें

कोरोना से जुड़े कुछ मिथक/भ्रम

नोवल कोरोना वायरस केवल बुजुर्गों के लिए खतरनाक है ?

हर उम्र के लोग नए कोरोना वायरस से संक्रमित हो सकते हैं. बुजुर्ग लोग और पहले से अस्‍थमा, डायबिटीज, हृदय रोग से पीड़‍ित लोगों को खतरा ज्‍यादा है.

गरमी का मौसम नोवल करोना वायरस को खत्‍म कर सकता है ?

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के अनुसार, अभी तक मिले साक्ष्‍य बताते हैं कि कोविड-19 वायरस सभी इलाकों में फैल सकता है. इसका गरमी या सर्दी से लेनादेना नहीं है.

गरम पानी से नहाने से कोरोना वायरस की रोकथाम की जा सकती है ?

गरम पानी से नहाना कोविड-19 से बचाव का रास्‍ता नहीं है. शरीर का तापमान करीब 36.5 डिग्री से 37 डिग्री सेंटीग्रेड रहता है. भले ही पानी या शॉवर का तापमान कितना भी हो. कोरोना से बचने का सबसे अच्‍छा तरीका बार-बार हाथों को धुलते रहना है.

अपने शरीर पर एल्‍कोहल या क्‍लोरीन लगा लेने से कोरोना वायरस खत्‍म हो जाता है ?

डब्‍ल्‍यूएचओ के अनुसार, शरीर पर एल्‍कोहल या क्‍लोरीन लगा लेने से वे वायरस नहीं मरेंगे जो पहले ही शरीर में प्रवेश कर चुके हैं. ऐसी चीजों को लगाने से कपड़ों या आंखों को नुकसान जरूर हो सकता है.

लहसुन खाने से कोरोना की रोकथाम में मदद मिलती है ?

बेशक लहसुन में औषधीय गुण होते हैं. हालांकि, इस बात के कोई साक्ष्‍य नहीं हैं कि इसे खाने से कोरोना से बचा जा सकता है.

पढ़ें कोरोनावायरस अपडेट: Ola और Uber ने बंद की ‘शेयर’ और ‘पूल’ राइड सर्विस

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
1
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x